तीसरे कीमोथेरेपी सेशन से पहले दुबई में मान्यता और बच्चों के साथ क्वालिटी टाइम बिता रहे संजय दत्त

कैंसर का ट्रीटमेंट करवा रहे संजय दत्त इन दिनों दुबई में हैं। वह अपनी पत्नी मान्यता दत्त के साथ पिछले दिनों वहां पहुंचे थे। संजय के जुड़वां बच्चे हैं जो कि पिछले 6 महीने से उनसे दूर हैं। इकरा और शहरान दुबई में पढ़ाई करते हैं, इसलिए वे दोनों पिछले महीने इंडिया वापस नहीं आ पाए थे। ऐसे में संजय मान्यता के साथ दुबई पहुंचे और उनके साथ क्वालिटी टाइम बिता रहे हैं। मान्यता ने इसकी फोटो इंस्टाग्राम स्टोरी में शेयर की हैं।

मान्यता की इंस्टाग्राम स्टोरी

10 दिन में वापस आ जाएंगे

खबर के मुताबिक, लंग कैंसर से जूझ रहे संजय पहले से बेहतर हैं। वे हफ्ते भर में या 10 दिन में वापस आ जाएंगे फिर उनकी कीमोथेरेपी का तीसरा चरण शुरू हो जाएगा। संजू को चौथे स्टेज का कैंसर है जिसका ट्रीटमेंट वह मुंबई के कोकिलाबेन अंबानी अस्पताल में करवा रहे हैं। 11 अगस्त को यह खबर वायरल हुई थी कि 61 वर्षीय अभिनेता फेफड़ों के कैंसर से जूझ रहे हैं लेकिन मान्यता ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट लिखकर बीमारी के बारे कोई कयास ना लगाने की अपील की थी।

मान्यता ने अपने स्टेटमेंट में लिखा- मैं उन सभी का धन्यवाद करती हूं, जिन्होंने संजू के जल्द से जल्द ठीक होने की दुआएं मांगी हैं।

हमें इस मुसीबत की घड़ी से बाहर आने के लिए आप सबकी प्रार्थनाओं की जरूरत है। इस परिवार ने पहले भी बहुत कुछ सहन किया है, लेकिन मुझे विश्वास है कि यह वक्त भी बीत जाएगा। आप सबसे मेरी यह गुजारिश है संजू के चाहने वाले किसी भी तरह की अफवाहों पर ध्यान न दें।

हमारी मदद करें और अपना प्यार और सहारा इसी तरह बनाए रखें। संजू हमेशा से ही फाइटर रहे हैं और इसलिए हमारा परिवार भी लड़ता रहा है। भगवान ने इस चैलेंज को देकर एक बार फिर हमारी परीक्षा ली है। हमें आपके प्यार और आशीर्वाद की जरूरत है। हम जानते हैं हमेशा की तरह इस बार भी हम ही विजेता होंगे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Sanjay Dutt Is Having A Gala Time With Kids In Dubai Ahead Of His Reported Third Chemotherapy


from bhaskar

Comments

Popular posts from this blog

एनसीबी के डिप्टी डायरेक्टर केपीएस मल्होत्रा बोला- मीडिया में झूठी खबर चल रही, हम खंडन जारी कर रहे हैं

राधिका आप्टे को नहीं शादी में भरोसा, बोलीं- मुझे 2012 में शादी करनी पड़ी, क्योंकि लंदन का वीजा चाहिए था