भाजपा सांसद रवि किशन के फेक टि्वटर अकाउंट से जया बच्चन पर ड्रग्स लेने का आरोप

सुशांत केस में ड्रग्स के कनेक्शन में बॉलीवुड के कई नाम उजागर होने से इंडस्ट्री खेमों में बंटती नजर आ रही है। मंगलवार को इसकी गूंज संसद में भी सुनाई दी। मानसून सत्र में गोरखपुर से सांसद रवि किशन ने बॉलीवुड में ड्रग्स कनेक्शन का मुद्दा उठाया। वहीं, राज्य सभा सांसद जया बच्चन ने इसे बॉलीवुड को बदनाम करने का आरोप लगाया। इसी बीच, रवि किशन के एक फेक अकाउंट से ट्वीट किया गया है। इसमें जया बच्चन पर ड्रग्स लेने का आरोप लगाया गया है।

रवि किशन के फेक अकाउंट से ट्वीट

क्या है इस अकाउंट का सच

रवि किशन के इस फेक अकाउंट पर 18 हजार के करीब फॉलोअर हैं। यह रवि किशन का एक मात्र ऑफिशियल अकाउंट होने का दावा करता है। इस ट्विटर हैंडल से जया बच्चन और उनके परिवार के बारे में कई आपत्तिजनक बातें भी ट्वीट की गई हैं। जबकि सांसद रवि किशन के पास वैरिफाइड ट्विटर हैंडल हैं, जिस पर दो लाख से ज्यादा फॉलोअर्स हैं। इस फेक ट्विटर हैंडल से जया बच्चन और उनके परिवार के बारे में कई आपत्तिजनक बातें भी ट्वीट की गई हैं।

​​​​​​

ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से ट्वीट

##

संसद में क्या बोले रवि किशन

मंगलवार को सांसद रवि किशन ने सत्र के शून्यकाल में कहा कि, हम सब जानते हैं कि हमारे देश में ड्रग ट्रैफिकिंग और ड्रग एडिक्शन की समस्या बढ़ती जा रही है। हानिकारक दवाओं के सेवन के माध्यम से देश की युवा पीढ़ी को बर्बाद करने की साजिश रची जा रही है। इस साजिश में हमारे पड़ोसी मुल्कों का हाथ हैं। प्रतिवर्ष चीन और पाकिस्तान के रास्ते देश में भारी मात्रा में नशे नशे की दवाइयां तस्करी द्वारा मंगाई जाती हैं और स्थानीय अपराधी तत्वों द्वारा इनका वितरण किया जाता है। हाल ही में केंद्र सरकार की तत्परता के कारण इस प्रकार के कई मामले पकड़े भी गए हैं। दुख की बात यह भी है कि इस प्रकार की गतिविधियों में हमारी फिल्म इंडस्ट्री के लोग भी शामिल पाए गए हैं। यह बहुत खतरनाक बात है क्योंकि हमारी युवा पीढ़ी फिल्म के कलाकारों का अनुसरण करती है और उनसे बहुत सारी चीजें सीखनी है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Jaya Bachchan accused of taking drugs from Ravi Kishan's fake twitter account


from bhaskar

Comments

Popular posts from this blog

Stars Unite for Table Reading of Fast Times At Ridgemont High

Chicken vs. cow

Money Stuff: It’s Not All Bad for Banks