कंगना बोलीं- जयाजी और उनकी इंडस्ट्री ने कोई थाली नहीं दी, ये मेरी अपनी थाली; संसद में जया के बयान के बाद अमिताभ के घर की सुरक्षा बढ़ाई

समाजवादी पार्टी की सांसद जया बच्चन ने बॉलीवुड में ड्रग्स मामले पर राज्यसभा में बयान दिया था। इस पर विवाद बढ़ता जा रहा है। महाराष्ट्र सरकार ने इसके बाद मुंबई में अमिताभ बच्चन के घर की सुरक्षा बढ़ा दी। उधर, एक्ट्रेस कंगना रनोट ने लगातार दूसरे दिन जया पर पलटवार किया।

उन्होंने ट्वीट किया' कौन सी थाली दी है जया जी और उनकी इंडस्ट्री ने? मैंने इस इंडस्ट्री को फैमिनिज्म सिखाया। थाली देश भक्ति नारी प्रधान फिल्मों से सजाई। यह मेरी अपनी थाली है जया जी आपकी नहीं।

कंगना ने कहा, शो बिजनेस हमेशा से जहरीला रहा है
कंगना ने कहा, 'शो बिजनेस हमेशा से जहरीला रहा है। लाइट और कैमरे की इस दुनिया में लोग भरोसा करने लगते हैं और इसी में जीने लगते हैं। लोग एक वैकल्पिक सच्चाई पर विश्वास करने लगते हैं और अपने चारों ओर एक घेरा बना लेते हैं। इस भ्रम से बाहर निकलने के लिए मजबूत आध्यात्मिक शक्ति की जरूरत पड़ती है।'

उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में संविधान का कर्तव्य है कि वह क्रांतिकारी आवाज को सुरक्षा दे। यहां इस मामले में आप लोकतंत्र में दो चीजें देखते हैं, 1- बचाने वाला, 2- जिसे बचाया गया। लोग दोनों ही नहीं बन पाते। ऐसा कुछ बनें, जो देश के लिए मायने रखता हो।

जया ने कहा था- आप जिस थाली में खाते हैं उसमें छेद नहीं कर सकते हैं
दरअसल, जया बच्चन ने मंगलवार को संसद में कहा था, 'कुछ लोगों की वजह से आप पूरे इंडस्ट्री की छवि को धूमिल नहीं कर सकते। मुझे शर्म आती है कि कल लोकसभा में हमारे एक सदस्य, जो फिल्म उद्योग से हैं, उन्होंने इसके खिलाफ बोला। यह शर्मनाक है। आप जिस थाली में खाते हैं उसमें छेद नहीं कर सकते हैं।' जया का यह बयान सुशांत की मौत के बाद बॉलीवुड के साथ कंगना रनोट का विवाद और भाजपा सांसद रवि किशन के लोकसभा में दिए गए बयान से जोड़ कर देखा जा रहा है।

ड्रग्स विवाद से जुड़ी ये खबरें भी पढ़ें
जया बच्चन ने संसद में रविकिशन से कहा- जिस थाली में खाते हैं, उसमें छेद नहीं कर सकते; कंगना बोलीं- आपका बेटा फंदे पर लटका होता, तब भी यही कहतीं?



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Kangana Ranaut; Latest News On Kangana Ranaut Jaya Bachchan | Amitabh Bachchan Security Increased Jaya Bachchan Statement In Parliament


from bhaskar

Comments

Popular posts from this blog

How to Dance Across Medium with Fantastic Writers

Chicken vs. cow

Money Stuff: It’s Not All Bad for Banks