मीडिया रिपोर्ट में खुलासा- एम्स डॉक्टरों का पैनल चाहता है कि सीबीआई हत्या के एंगल से करे अभिनेता की मौत की जांच

सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में हर रोज हो रहे नए खुलासे के बीच एम्स (ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेस) ने इस मामले की जांच हत्या के एंगल से करने के लिए कहा है। इस बात का खुलासा रिपब्लिक टीवी ने एम्स सूत्रों से हुई बातचीत के आधार पर किया। साथ ही उधर सीबीआई ने एम्स की टीम को मुंबई आने के लिए भी कह दिया है।

सीबीआई ने एम्स से सुशांत की पोस्टमार्टम रिपोर्ट और ऑटोप्सी रिपोर्ट की जांच करते हुए उस पर राय मांगी थी। जिसके बाद एम्स ने सुशांत की फाइल की जांच के लिए पांच फोरेंसिक विशेषज्ञों का एक पैनल बनाया था।

शुक्रवार को देंगे विसरा रिपोर्ट

सूत्र ने चैनल से बातचीत में बताया, एम्स द्वारा गठित फोरेंसिक विशेषज्ञों के पांच सदस्यीय मेडिकल बोर्ड ने सीबीआई की मदद करने के लिए मंगलवार को दिवंगत अभिनेता की ऑटोप्सी रिपोर्ट की जांच की थी। इसके साथ ही सुशांत की विसरा रिपोर्ट की जांच भी फोरेंसिक टीम द्वारा की जाएगी और वे अपने निष्कर्ष शुक्रवार को सीबीआई के साथ साझा करेंगे। इससे पहले सोमवार शाम को सुशांत की पोस्टमार्टम और अन्य रिपोर्ट्स को एम्स की टीम के साथ साझा किया गया था।

एम्स विशेषज्ञ ने हर एंगल से जांच करने की बात कही थी

इस मामले में जांच पैनल का नेतृत्व कर रहे एम्स के फोरेंसिक विभाग के प्रमुख डॉ सुधीर गुप्ता ने पिछले हफ्ते कहा था, 'हम हत्या होने के अलावा सभी संभावित एंगल्स से इस पूरी जांच को करेंगे।' उन्होंने कहा था, हमारी टीम राजपूत के शरीर पर चोट के पैटर्न का विश्लेषण करेगी और परिस्थितिजन्य साक्ष्यों के साथ उन्हें मिलाएगी। उन्होंने कहा था, 'संरक्षित विसरा की जांच की जाएगी और जो एंटी-डिप्रेसेंट राजपूत को दिए गए थे, उनका विश्लेषण भी एम्स प्रयोगशाला में किया जाएगा।'

फोरेंसिक एक्सपर्ट ने क्राइम सीन खराब करने पर हैरानी जताई थी

बीते शुक्रवार को सीबीआई ने मेडिको-लीगल ओपिनियन के लिए एम्स के फोरेंसिक विभाग से संपर्क किया था। शनिवार को रिपब्लिक टीवी से बात करते हुए डॉ सुधीर गुप्ता ने क्राइम सीन को जिस तरह से खराब किया था उस पर हैरानी जताई थी। डॉक्टर गुप्ता ने कहा था कि क्राइम सीन की यथास्थिति को बरकरार नहीं रखा गया और उसे पूरी तरह बर्बाद कर दिया गया। जिससे हो सकता है कि वो जगह फोरेंसिक सबूतों की जांच के लिए अनुपयुक्त हो गई हो।

सिर्फ 20% बचा है सुशांत का विसरा

फॉरेंसिक साइंस लेबोरेटरी के सूत्रों ने खुलासा किया कि सुशांत के डीएनए, उनके खून और अन्य अंगों से लिए गए नमूनों में से करीब 80 फीसदी का इस्तेमाल मुंबई पुलिस कर चुकी है। सीबीआई यह काम बाकी बचे हुए 20 प्रतिशत विसरा से करेगी।

कूपर अस्पताल को मानवाधिकार आयोग का नोटिस

बुधवार को हुए नए घटनाक्रम में महाराष्ट्र मानवाधिकार आयोग ने कूपर अस्पताल और मुंबई पुलिस को नोटिस भेजा है। इसमें रिया चक्रवर्ती को मॉर्चुरी में जाने की इजाजत देने पर सवाल उठाए गए हैं। आयोग ने अस्पताल मैनेजमेंट और पुलिस से पूछा है कि किन नियमों के तहत रिया को परमिशन दी गई थी?

ड्रग्स माफिया के एंगल की एंट्री भी हो गई

सुशांत सिंह केस में मंगलवार को पांचवीं जांच एजेंसी की भी एंट्री हो गई। सीबीआई, ईडी, बिहार पुलिस और मुंबई पुलिस के बाद एनसीबी केस में शामिल होने वाली पांचवीं एजेंसी है। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने रिया के वॉट्सऐप से डिलीट की गई चैट सीबीआई के साथ-साथ नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) को भी सौंपी है। ईडी ने जो चैट दी है उसमें रिया चक्रवर्ती का कथित तौर पर ड्रग्स कनेक्शन सामने आया है।

जब्त किए मोबाइल फोन की जांच से हुआ खुलासा

10 अगस्त को प्रवर्तन निदेशालय ने रिया और उनके परिवार के 4 मोबाइल हैंडसेट जब्त कर लिए थे। इनमें दो फोन रिया के हैं और एक-एक उनके पिता और भाई का है। दो आईपेड और एक लैपटॉप भी ईडी ने कब्जे में लिया था। ये सभी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस जांच के लिए फोरेंसिक लैब भेज दिए गए थे। दावा किया जा रहा है कि इसी जांच के दौरान ड्रग्स एंगल का खुलासा हुआ है।

14 जून को घर में पिठानी के अलावा तीन और लोग मौजूद थे

14 जून को सुशांत का शव बांद्रा के जिस फ्लैट में लटका मिला था, उसमें उस वक्त चार लोग थे। सिद्धार्थ पिठानी (सुशांत के फ्लैट-मेट), दीपेश सावंत (सुशांत के दोस्त), नीरज सिंह (हाउस कीपर) और केशव (कुक)। नीरज ने एक बातचीत में सुशांत की मौत से पहले की कहानी सुनाई थी।उसने बताया था कि सुशांत ने सुबह नाश्ता किया था। लेकिन जब 10:00-10:30 बजे स्टाफ उनसे यह पूछने गया कि लंच में क्या बनाना है तो उन्होंने दरवाजा नहीं खोला।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
14 जून को सुशांत का शव बांद्रा के जिस फ्लैट में लटका मिला था, उसमें उस वक्त चार लोग थे।


from bhaskar

Comments

Popular posts from this blog

How to Dance Across Medium with Fantastic Writers

Chicken vs. cow

Money Stuff: It’s Not All Bad for Banks