सनोज मिश्रा की फिल्म 'शशांक' में आर्य बब्बर की एंट्री, मशहूर प्रोड्यूसर के किरदार में आएंगे नजर

बाॅलीवुड में जारी नेपोटिज्म और सुशांत सिंह राजपूत की जिंदगी में हुई घटनाओं से प्रभावित कई मुद्दों को लेकर निर्देशक सनोज मिश्रा और निर्माता मारुत सिंह फिल्म शशांक बनाने जा रहे हैं। इस फिल्म में मुख्य किरदार निभाने के लिए सचिन तिवारी को साइन किया गया थे। लेकिन उन्होंने जब दूसरी फिल्म करना शुरू कर दी तो शशांक के निर्माता-निर्देशक ने उन पर धोखाधड़ी का आरोप लगाते हुए उनको लीगल नोटिस भेजा है। सुर्खियों में चल रही इस फिल्म में अब एक्टर आर्य बब्बर की एंट्री हो चुकी है। वो फिल्म में एक अहम किरदार में नजर आएंगे।

हाल ही में डायरेक्टर सनोज मिश्रा ने बताया कि अभिनेता आर्य बब्बर को इस फिल्म में मशहूर प्रोड्यूसर का किरदार निभाने के लिए साइन किया गया है। आर्य बब्बर बहुत अच्छे अभिनेता हैं। शशांक में वे एक़ बड़े फिल्म निर्माता का किरदार निभा रहे हैं। सनोज मिश्रा ने आगे बताया कि इस फिल्म में राजवीर सिंह और प्रिया श्रेष्ठ जैसे स्टार मुख्य रोल के लिए कास्ट कर लिए गए हैं। इसमें एक प्रमुख किरदार के लिए राज बब्बर से बात चल रही है।

सुशांत से जुड़े शहरों में होगी शूटिंग

फिल्म की शूटिंग 26 दिसंबर से शुरू होने वाली है। इसकी शूटिंग पटना, पूर्णिया और मुंबई में की जाएगी। हम इस फिल्म को अगले साल मार्च महीने में रिलीज करने वाले हैं। आउटसाइडर स्टार के जीवन के साथ ही बॉलीवुड में नेपोटिज्म पर आधारित इस फिल्म की राइटर रेनू यादव हैं।

सुशांत के हमशक्ल पर मेकर्स ने लगाए आरोप

सचिन ने जुलाई में इस फिल्म की वर्कशाप लेना भी शुरू कर दी थी। लेकिन इस बीच सचिन वर्कशाप में ना आने का बहाना करने लगे और बाद में उन्होंने निर्देशक और सह-निर्माता सनोज मिश्रा का फोन भी उठाना बंद कर दिया। निर्देशक सनोज को मीडिया के जरिए पता लगा कि सचिन दूसरे निर्माता के साथ फिल्म कर रहे हैं जिसके बाद उन्हें मेकर्स की तरफ से लीगल नोटिस भिजवाया गया।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Arya Babbar's entry in Sanoj Mishra's film 'Shashank' based on susshant singh rajput's life, will be seen in the role of famous producer


from bhaskar

Comments

Popular posts from this blog

Stars Unite for Table Reading of Fast Times At Ridgemont High

Chicken vs. cow

Money Stuff: It’s Not All Bad for Banks