नारकोटिक्स ब्यूरो ने जांच के लिए 20 सदस्यों की टीम गठित की, दिल्ली से आए अफसर बॉलीवुड में ड्रग्स नेटवर्क की जांच करेंगे

सुशांत सिंह राजपूत मौत मामले में अब ड्रग्स का एंगल भी सामने आ चुका है। लिहाजा, सीबीआई और ईडी के बाद अब नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) भी जांच शुरू करने जा रहा है। नई दिल्ली से 20 अफसरों की एक टीम मुंबई पहुंचने वाली है। यह टीम मुंबई (खासतौर पर बॉलीवुड) में ड्रग्स नेटवर्क खंगालेगी।

एनसीबी के डायरेक्टर जनरल राकेश अस्थाना ने गुरुवार को कहा, "सुशांत की मौत के मामले में ड्रग्स एंगल की जांच के लिए टीम बनाई गई है। यह टीम दिल्ली से मुंबई के लिए रवाना हो चुकी है। इसकी अगुआई टीम उप निदेशक (एनसीबी) केपीएस मल्होत्रा ​​कर रहे हैं।

बुधवार को रिया समेत 5 पर दर्ज किया गया था केस
इससे पहले एनसीबी ने बुधवार को अभिनेता रिया चक्रवर्ती, उनके भाई शोविक चक्रवर्ती, मैनेजर सैमुअल मिरांडा, जया साहा और एक अन्य शख्स पर एनसीबी की धारा 27 सहित नार्कोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंस (एनडीपीएस) अधिनियम, 1985 की विभिन्न धाराओं में केस दर्ज किया था।

रिया पर यह केस उनके कुछ व्हाट्सऐप चैट सामने आने के बाद किया गया है। रिया के खिलाफ दर्ज धाराओं में मादक पदार्थ या साइकोट्रॉपिक पदार्थ इस्तेमाल करने पर कड़ी सजा का प्रावधान है।

पटना में सुशांत के पिता ने भी दर्ज करवाई थी एफईआर

राजपूत के पिता केके सिंह द्वारा 26 जुलाई को बिहार में दर्ज केस के बाद 31 जुलाई को ईडी ने इस मामले में अपनी ओर से रिया चक्रवर्ती समेत 7 लोगों पर केस दर्ज किया था। जिसमें उनके पिता इंपटना में द्रजीत चक्रवर्ती, भाई शोविक चक्रवर्ती, मां संध्या चक्रवर्ती के नाम शामिल हैं। इनपर आत्महत्या के लिए उकसाने, आपराधिक षड्यंत्र रचने, चोरी, धोखाधड़ी और धमकी देने के आरोपों के साथ केस दर्ज करवाया है। मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी गई है और तभी से यह पूरा परिवार चर्चा में है।

इसके खिलाफ रिया ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी, जिसे अदालत ने खारिज करते हुए पटना में दर्ज एफआईआर को वैध बताया और इस मामले की जांच सीबीआई के हाथ में सौंप दी। राजपूत 14 जून को अपने आवास पर मृत पाए गए थे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
सुशांत सिंह राजपूत (फाइल)


from bhaskar

Comments

Popular posts from this blog

How to Dance Across Medium with Fantastic Writers

Chicken vs. cow

Money Stuff: It’s Not All Bad for Banks