14 जून को सुशांत के घर पर पहुंची थीं दो एंबुलेंस, ड्राइवर ने कहा, सुशांत की मौत के बाद हमारे सुसाइड करने की नौबत आ गई है, लोग गालियां देते हैं

14 जून को हुई सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद कई मीडिया रिपोर्ट्स में यह सवाल उठाए गए कि उस दिन उनके घर पर दो एंबुलेंस क्यों आई थीं। दो एंबुलेंस दिखाई देने पर इस बात को शक की निगाह से देखा गया लेकिन अब इस मामले में एंबुलेंस के ड्राइवरों ने अपनी सफाई पेश कर दी है।

'पहली एंबुलेंस में खराबी थी'

पहली एंबुलेंस के ड्राइवर साहिल ने इंडिया टुडे को दिए इंटरव्यू में कहा, एंबुलेंस की ट्रॉली टूटी हुई थी इस वजह से वहां उसी वक्त दूसरी एंबुलेंस बुलाई गई। दूसरी एंबुलेंस के ड्राइवर ने भी इस बात को सही बताते हुए कहा कि उन्हें मुंबई पुलिस से कॉल आया था, पहली एंबुलेंस की ट्रॉली टूटी हुई थी जिसकी वजह से वह दूसरी एंबुलेंस लेकर वहां गया।

पेमेंट को लेकर की थी संदीप से बात

ड्राइवर ने संदीप सिंह से भी बात करने को लेकर भी सफाई दी। दरअसल, सीडीआर रिपोर्ट के मुताबिक तीन बार अक्षय ने संदीप को कॉल किया था, वहीं संदीप ने एक बार अक्षय को कॉल किया था। इनमें से तीन बार बात 14 जून यानी सुशांत की मौत वाले दिन हुई थी, वहीं एक बार बात 16 जून को हुई थी। इसपर ड्राइवर अक्षय ने कहा, हम उन्हें पेमेंट के लिए फोन लगा रहे थे। पुलिस ने कहा था कि संदीप ही हैं जो हमें सुशांत की बॉडी को अस्पताल तक पहुंचाने के लिए पैसे देंगे।

एंबुलेंस के को-ऑर्डिनेटर विशाल ने कहा, सुशांत की मौत के बाद हमारे सुसाइड करने की नौबत आ गई है। लोग हमें गालियां दे रहे हैं, ये नेशनल इश्यू बन गया है। हम लोगों की मदद करते आए हैं, लेकिन अब डर लगता है किसी की मदद करें भी या नहीं।

सीबीआई कर रही जांच

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में सीबीआई जांच का 31 अगस्त को 11वां दिन है। सुशांत की गर्लफ्रेंड रहीं रिया से सांताक्रूज स्थित डीआरडीओ गेस्ट हाउस में पूछताछ जारी है। सीबीआई ने वहीं पर अस्थाई ऑफिस बना रखा है। रिया से लगातार चौथे दिन सवाल-जवाब किए जा रहे हैं। रिया पर सुशांत के परिवार ने सुसाइड के लिए उकसाने और धोखाधड़ी सहित कई आरोप लगाए हैं



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Sushant Singh Rajput death: Drivers explain why two ambulances were present at SSR’s house,says-“Humare suicide karne ki naubat aa gayi hai''


from bhaskar

Comments

Popular posts from this blog

Chicken vs. cow

Money Stuff: It’s Not All Bad for Banks

How to Dance Across Medium with Fantastic Writers