रिपोर्ट्स में दावा- ऋतिक रोशन ने अकेली 'वॉर' से की थी 100 करोड़ से ज्यादा की कमाई, 48 करोड़ तो सिर्फ फीस के रूप में लिए

अभिनेता ऋतिक रोशन अपनी पिछली फिल्म 'वॉर' की फीस को लेकर चर्चा में हैं। दावा किया जा रहा है कि 2 अक्टूबर 2019 को रिलीज हुई इस फिल्म से उन्होंने अकेले ने 100 करोड़ रुपए से ज्यादा की कमाई की थी। इसमें से 48 करोड़ रुपए उनकी फीस थी और बाकी रकम उन्होंने प्रॉफिट शेयर से कमाई थी।

इंडियन बॉक्स ऑफिस नाम के ट्विटर हैंडल से लिखा गया है, "सुपरस्टार ऋतिक रोशन ने यशराज फिल्म्स के साथ प्रॉफिट पार्टनर के तौर पर डील की थी। साथ ही 48 करोड़ रुपए साइनिंग अमाउंट के रूप में लिए थे। इस तरह उनका कुल मेहनताना लगभग 100 करोड़ रुपए हुआ।

कितने परसेंट प्रॉफिट के पार्टनर थे ऋतिक

रिपोर्ट्स की मानें तो फिल्म के प्रॉफिट में ऋतिक रोशन की 40 परसेंट की हिस्सेदारी थी। बॉक्स ऑफिस पर फिल्म ने करीब 318 करोड़ रुपए की कमाई की थी। फिल्म का कुल बजट 170 करोड़ रुपए बताया जाता है, जिसमें से 150 करोड़ रुपए निर्माण और 20 करोड़ रुपए पब्लिसिटी पर खर्च किए गए थे। यानी कि फिल्म को करीब 148 करोड़ रुपए का प्रॉफिट हुआ था। इसमें 40 परसेंट के हिसाब से ऋतिक की हिस्सेदारी लगभग 59 करोड़ होती है। इस हिसाब से अभिनेता ने फिल्म से उन्होंने करीब 107 (48+59) करोड़ रुपए की कमाई की।

2019 की हाईएस्ट ग्रॉसर बॉलीवुड फिल्म

सिद्धार्थ आनंद के निर्देशन में बनी 'वॉर' 2019 की हाईएस्ट ग्रॉसर फिल्म थी। हालांकि, सभी भाषाओं के हिंदी वर्जनों को भी इसमें शामिल किया जाए तो यह दूसरे नंबर पर आती है। पहले पायदान पर हॉलीवुड फिल्म 'एवेंजर्स : एंडगेम' है, जिसने भारत में करीब 373 करोड़ रुपए की कमाई की थी।

बॉक्स ऑफिस पर तोड़े थे कई रिकॉर्ड

'वॉर' ने बॉक्स ऑफिस पर कई रिकॉर्ड भी कायम किए थे। यह पहले दिन 51.60 करोड़ रुपए का कलेक्शन कर बॉलीवुड की अब तक की सबसे बड़ी ओपनर साबित हुई। इसके अलावा यह ऋतिक रोशन और टाइगर श्रॉफ के कॅरियर की अब तक की सबसे ज्यादा कमाई करने वाली फिल्म बनी। यशराज के बैनर और सिद्धार्थ आनंद के निर्देशन में बनी यह अब तक की हाईएस्ट ग्रॉसर फिल्म है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
'वॉर' ऋतिक रोशन के अब तक के कॅरियर की हाईएस्ट ग्रॉसर फिल्म है।


from bhaskar

Comments

Popular posts from this blog

How to Dance Across Medium with Fantastic Writers

Chicken vs. cow

Money Stuff: It’s Not All Bad for Banks