'बैंडिट क्वीन' जैसी फिल्मों के अभिनेता अनुपम श्याम आईसीयू में, व्हाट्सऐप ग्रुप में मांग रहे बॉलीवुड सेलेब्स से मदद

'बैंडिट क्वीन' (1994) , 'लज्जा' (2001), 'नायक' (2001) और 'शक्ति : द पावर'(2002) जैसी फिल्मों में नजर आए सीनियर अभिनेता अनुपम श्याम मुंबई के गोरेगांव स्थित एक अस्पताल के आईसीयू में भर्ती हैं। इस बात की जानकारी पत्रकार और फिल्ममेकर एस. रामचंद्रन ने ट्विटर पर दी है। रामचंद्रन ने अनुपम के इलाज के लिए आमिर खान और सोनू सूद से मदद मांगी है। बताया जा रहा है कि अनुपम सोमवार रात अपने घर में गिर गए थे। वे किडनी की परेशानी से जूझ रहे हैं।

पत्रकार ने अपने ट्वीट में लिखा है, "अभिनेता अनुपम श्याम आईसीयू में भर्ती हैं। उन्होंने व्हाट्सऐप ग्रुप में मदद मांगी है।" इसके आगे आमिर खान और सोनू सूद को टैग किया गया है। उन्होंने इसी ट्वीट को री-ट्वीट कर यह जानकारी भी दी है कि अनुपम का इलाज लाइफलाइन हॉस्पिटल में चल रहा है।

मनोज बाजपेयी ने की मदद की पेशकश

अभिनेता मनोज बाजपेयी ने अनुपम श्याम की मदद की पेशकश की है। उन्होंने जैसे ही ट्वीट में यह पढ़ा कि सीनियर एक्टर बीमार हैं और उन्हें मदद की आवश्यकता है तो उन्होंने तुरंत उसी ट्वीट पर रिप्लाई किया, "प्लीज मुझे कॉल कीजिए।" अनुपम और मनोज ने 'बैंडिट क्वीन', दस्तक', और 'संसोधन' जैसी में साथ काम किया है।

'प्रतिज्ञा' के ठाकुर सज्जन सिंह के किरदार से फेमस

टीवी सीरियल 'मन की आवाज प्रतिज्ञा' में निभाया गया अनुपम का किरदार ठाकुर सज्जन सिंह बहुत पॉपुलर है। मूलरूप से प्रतापगढ़, उत्तर प्रदेश के रहने वाले अनुपम लखनऊ के भारतेंदु एकेडमी ऑफ़ ड्रामेटिक आर्ट्स के छात्र रहे हैं। यहां उन्होंने 1983-1985 तक एक्टिंग की ट्रेनिंग ली। 2011 में वे अन्ना हजारे के आंदोलन के समर्थक भी रहे हैं।

अनुपम की ये फिल्में भी पॉपुलर

अनुपम ने 'सरदारी बेगम' (1996), 'दुश्मन' (1998), 'कच्चे धागे' (1999), 'परजानियां' (2005), 'गोलमाल' (2006), 'स्लमडॉग मिलियनेयर' (2008) और 'मुन्ना माइकल' (2017) जैसी फिल्मों में भी अहम भूमिका निभाई है। टीवी पर वे आखिरी बार 'कृष्णा चली लंदन' (2018-2019) में दिखाई दिए थे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
टीवी सीरियल 'मन की आवाज प्रतिज्ञा' में निभाया गया अनुपम का किरदार ठाकुर सज्जन सिंह बहुत पॉपुलर है।


from bhaskar

Comments

Popular posts from this blog

How to Dance Across Medium with Fantastic Writers

Chicken vs. cow

Money Stuff: It’s Not All Bad for Banks