लॉकडाउन में हजारों प्रवासियों को घर भेजने के बाद अब सोनू सूद नौकरी भी दिलाएंगे, इसके लिए ‘प्रवासी रोजगार ऐप’ शुरू किया

कोरोनावायरस के कारण देश में हुए लॉकडाउन ने सोनू सूद को हर किसी का चहेता बना दिया है। हजारों लाखों प्रवासियोंको घर भेजने के बाद सोनू ने एक और पहल की है। अब वे प्रवासियों कोनौकरी दिलाने में भीमदद करेंगे। इसके लिए सोनू ने'प्रवासी रोज़गार' नाम से एकप्लेटफार्म शुरू किया है। जो प्रवासियों कोनौकरी खोजने के लिए जरूरी जानकारी और सही लिंक मुहैया कराएगा। इसकी जानकारी सोनू ने अपने ट्विटर हैंडल पर शेयर की है।

500 कंपनियों से टाईअप 7 शहरों में उपलब्धता

देश के विभिन्न हिस्सों में प्रवासी श्रमिकों के लिए रोजगार के सही अवसर खोजने के लिए शुरू किए गए इस प्लेटफॉर्म पर मैन्युफैक्चरिंग, गारमेंट्स, हेल्थ सर्विस, इंजीनियरिंग, बीपीओ, सिक्योरिटी, ऑटोमोबाइल, ई-कॉमर्स और रसद क्षेत्रों से संबंधित 500 से अधिक प्रतिष्ठित कंपनियों के नौकरी के अवसर पता चल सकेंगे। इस सेवा की शुरुआत 23 जुलाई से हो रही है। जहां चौबीसघंटे हेल्पलाइनके साथ साथ दिल्ली, मुंबई, बैंगलोर, हैदराबाद, कोयम्बटूर, अहमदाबाद और तिरुअनंतपुरम सहित 7 शहरों में माइग्रेशन सहायता केंद्र स्थापित किए गए हैं।

लॉकडाउन के दौरान ही हुई प्लानिंग

सोनू सूद ने कहा- "पिछले कुछ महीनों में इस पहल को तैयार करने के लिए बहुत सोचा और फिर प्लान तैयार किया।देश के टॉप ऑर्गनाइजेशन केसाथ डिस्कशनकियाहै जो गरीबी रेखा से नीचे के युवाओं और गरीबी रेखा से नीचे के युवाओं को रखने तैयार हैं। वे एनजीओ, सोशल ऑर्गनाईजेशन, गवर्नमेंट ऑफिशियल्स केस्टार्ट अप हैं।वेकहते हैं, 'देश में 6 करोड़ से अधिक, अंतरराज्यीय प्रवासी श्रमिक हैं, उनमें से 3 करोड़ मजदूर हैं। कुछ ही समय में ऐप पर लगभग 1 करोड़ लोग होंगे।'

ये भी पढ़ें

मदद के बदले सम्मान:सोनू सूद की मदद से घर लौटे प्रशांत कुमार ने खोली वेल्डिंग शॉप, एक्टर की परमिशन लेकर रखा दुकान का नाम 'सोनू सूद वेल्डिंग शॉप'

मददगार सितारा:लॉकडाउन खुलने के बाद भी जारी है सोनू सूद की मदद का सिलसिला; मुंबई पुलिस को दिए 25 हजार फेसशील्ड, अब तक बीती घटनाओं को देंगे किताब की शक्ल



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
After sending thousands of migrants home during lockdown now Sonu Sood launches Pravasi Rozgar App


from bhaskar

Comments

Popular posts from this blog

Stars Unite for Table Reading of Fast Times At Ridgemont High

Chicken vs. cow

Money Stuff: It’s Not All Bad for Banks