शेखर कपूर ने लिखी बड़ी बात- भगवान चाहेगा तो एक न एक दिन 'पानी' जरूर बनेगी, ऐसा होता है तो ये सुशांत को ही समर्पित होगी

शेखर कपूर, सुशांत सिंह राजपूत को लेकर फिल्म पानी बनाने वाले थे। लेकिन यशराज प्रोडक्शन के पीछे हटने के कारण यह फिल्म नहीं बन सकी। दो साल तक सुशांत के साथ रहकर पानी पर काम कर चुके शेखर कपूर ने इस फिल्म को लेकर बड़ी बात कही है। शेखर ने एक ट्वीट के जरिए लिखा है-भगवान चाहेगा तो एक न एक दिन 'पानी' जरूर बनेगी, ऐसा होता है तो ये सुशांत को ही समर्पित होगी।

विनम्र पार्टनर्स के साथ बनाएंगे पानी

शेखर ने ट्वीट किया- यदि आप देवताओं या अपनी रचनात्मकता के साथ यात्रा करना चाहते हैं, तो आपको भक्ति के साथ हर कदम बढ़ाना होगा। विनम्रता में। भगवान ने चाहा तो पानी एक दिन बनेगी। अगर ऐसा होता है, तो मैं इसे सुशांत को समर्पित करूंगा। लेकिन इसे ऐसे भागीदारों के साथ बनाना होगा जो विनम्रता में चलते हैं, अहंकार में नहीं।

10 साल से अधूरा है पानी का प्रोजेक्ट

सुशांत की मौत के बाद शेखर ने अपने बयान में बताया था- 'पानी मेरा ड्रीम प्रोजेक्ट था जो पिछले 10 सालों से अब तक अधूरा है।सुशांत के जाने के बाद शायद ही कोई उनकी जगह ले पाए। साल 2012-13 के दौर में 150 करोड़ की इस मेगा बजट फिल्म को बनाने के लिए यशराज फिल्म्स में आदित्य चोपड़ा और मेरी मुलाकात हुई थी और तय हुआ कि यशराज के बैनर तले साल 2014 से ये फिल्म बनेगी। इस फिल्म से हमें काफी उम्मीदें थीं। ये मेगा बजट फिल्म 3 से 4 साल में पूरी होनी थी। प्री-प्रोडक्शन में यशराज ने तकरीबन 5 से 7 करोड़ रुपए खर्च भी किए थे और सुशांत की डेट्स भी हमने ब्लॉक कर ली थीं।'

पानी के लिए कई फिल्में छोड़ी थीं सुशांत ने

शेखर ने कहा था-'फिल्म को लेकर हुई मुलाकातों के दौरान धीरे-धीरे हम काफी करीबी दोस्त बन गए और निजी जीवन की बातों के साथ-साथ क्वांटम फिजिक्स से लेकर हर तरह की बातें करने लगे। अपने रोल को लेकर वो हर छोटी-छोटी बातें पूछता था। उसने इस प्रोजेक्ट के लिए कई फिल्में भी छोड़ दी थीं।'



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Shekhar Kapur wrote God willing Paani will get made one day If it does, I will dedicate it to Sushant


from bhaskar

Comments

Popular posts from this blog

Stars Unite for Table Reading of Fast Times At Ridgemont High

Chicken vs. cow

Money Stuff: It’s Not All Bad for Banks