नामी एक्शन डायरेक्टर परवेज खान का 55 साल की उम्र में निधन, अक्षय, शाहरुख, सैफ समेत कई कलाकारों के साथ किया था काम

हिंदी फिल्म इंडस्ट्री के लिए सोमवार का दिन एक बुरी खबर लेकर आया, जब नामी एक्शन डायरेक्टर परवेज खान का मुंबई में दिल का दौरा पड़ने से निधन हो गया। उनकी उम्र 55 साल थी। सीने में दर्द के बाद उन्हें रुबी अस्पताल ले जाया गया था, जहां उनकी जान नहीं बचाई जा सकी। परवेज ने अंधाधुंध, बदलापुर, बुलेट राजा जैसी फिल्मों में अपना योगदान दिया था।

उनके पूर्व सहायक निशांत खान ने इस बारे में जानकारी देते हुए बताया कि 'सुबह उन्हें बड़ा दिल का दौरा आया था, जिसके बाद उन्हें अस्पताल ले जाया गया लेकिन वहां उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। उन्हें स्वास्थ्य संबंधी किसी तरह की कोई समस्या नहीं थी, लेकिन कल रात सीने में दर्द महसूस हुआ था।'

हंसल मेहता ने ट्वीट कर श्रद्धांजलि दी

साल 2013 में आई फिल्म 'शाहिद' में परवेज के साथ काम कर चुके फिल्म मेकर हंसल मेहता ने उनकी मौत पर दुख व्यक्त करते हुए लिखा, 'अभी-अभी पता चला कि एक्शन डायरेक्टर परवेज खान नहीं रहे। हमने शाहिद में साथ काम किया था, जहां उन्होंने सिर्फ एक टेक में दंगों के सीक्वेंस को अंजाम दिया था। बहुत ही योग्य, ऊर्जावान और अच्छे आदमी थे। RIP परवेज। आपकी आवाज अब भी मेरे कानों में गूंज रही है।'

मनोज वाजपेयी ने वीडियो क्लिप शेयर की

अभिनेता मनोज वाजपेयी ने दुख व्यक्त करते हुए अपने ट्वीट में लिखा, 'उनके परिवार के लिए हार्दिक संवेदनाएं। उनकी आत्मा को शांति मिले।' अपने ट्वीट के साथ उन्होंने फिल्म 'जॉनी गद्दार' की एक वीडियो क्लिप भी शेयर की, जिसमें परवेज भी एक्टिंग करते नजर आ रहे हैं।

##

राजीव खंडेलवाल ने भी दुख जताया

परवेज के साथ फिल्म 'आमिर' में काम कर चुके अभिनेता राजीव खंडेलवाल ने भी उनके निधन पर दुख व्यक्त करते हुए लिखा, 'एक और झटका। एक्शन डायरेक्टर परवेज खान का निधन, जिनके साथ मेरी बहुत सी अद्भुत यादें हैं। उनके परिवार को शक्ति मिले।'

##

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Action director of Bollywood films like Andhadhun, Badlapur, AB Tak Chhappan, Johnny Gaddaar, Parvez Khan passes away on Monday at 55 after suffering a massive heart attack.


from bhaskar

Comments

Popular posts from this blog

How to Dance Across Medium with Fantastic Writers

Chicken vs. cow

Money Stuff: It’s Not All Bad for Banks