सीबीआई जांच की मांग को लेकर शेखर सुमन ने ऑनलाइन फोरम बनाया, बोले- ये मामला उतना साधारण नहीं जितना नजर आ रहा

सुशांत सिंह राजपूत की असमय मौत सेआम लोगों के साथ-साथ कई सेलेब्स को भी बहुत दुख पहुंचा है और वे अबतक उनके जाने के गम को भूला नहीं पाए हैं। पुलिस ने अपनी जांच में उनकी मौत को आत्महत्या ही माना है, लेकिन फिर भी कुछ सेलेब्स ऐसे हैं जो इस मामले में सीबीआई जांच की मांग भी कर रहे हैं। हाल ही में एक्ट्रेस रूपा गांगुली ने इसी मांग को लेकर कई ट्वीट्स किए थे। वहीं अब प्रख्यात अभिनेता शेखर सुमन ने भी इस मांग को लेकर #जस्टिस फोर सुशांत फोरम नाम से एक मंच बना दिया है।

सुशांत के जाने के बाद से ही शेखर अपने ट्विटर अकाउंट पर लगातार उनसे जुड़े ट्वीट करते हुए बॉलीवुड में उनके साथ हुई नाइंसाफियों के खिलाफ आवाज उठा रहे हैं। 22 जून को किए अपने ट्वीट में शेखर ने लिखा था, 'फिल्म इंडस्ट्री के सारे शेर बनने वाले कायर सुशांत के चाहने वालों के कहर से, चूहे बनकर बिल में घुस गए हैं। मुखौटे गिर गए हैं.... पाखंड उजागर हो गया है। दोषियों को सजा मिलने तक बिहार और भारत चुप नहीं बैठेगा। बिहार जिंदाबाद।'

सुशांत ने सुसाइड नोट जरूर छोड़ा होगा

23 जून को उन्होंने एक के बाद एक तीन ट्वीट किए। जिनमें से पहले ट्वीट में उन्होंने लिखा, 'ये बिल्कुल स्पष्ट है, फिर भी अगर मान भी लिया जाए कि सुशांत सिंह ने आत्महत्या की है, तो भी वो जितनी दृढ़ इच्छाशक्ति वाले और बुद्धिमान थे, तो उन्होंने निश्चित रूप से सुसाइट नोट भी छोड़ा होगा। कई अन्य लोगों की तरह मेरा दिल भी मुझसे कहता है कि ये मामला सिर्फ उतना साधारण नहीं है, जितना कि यह दिख रहा है।'

किसी और के साथ सुशांत जैसी त्रासदी ना हो

अपने दूसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा, 'सुशांत एक बिहारी थे, इसलिए बिहारी भावना सबसे आगे है। लेकिन मैं इस तथ्य को अनदेखा नहीं कर रहा हूं कि ये मामला भारत के सभी राज्यों के लोगों की चिंता से जुड़ा है और यहां सुशांत जैसी त्रासदी किसी अन्य प्रतिभाशाली युवा के साथ नहीं होनी चाहिए, जो खुद के दम पर बनने की कोशिश कर रहा हो।'

सीबीआई जांच की मांग को लेकर बनाया फोरम

तीसरे ट्वीट में उन्होंने लिखा, 'मैं एक मंच बना रहा हूं, जिसका नाम #जस्टिस फोर सुशांत फोरम है। जहां मैं सुशांत की मौत मामले में सीबीआई जांच शुरू करने की मांग को लेकर सरकार पर दबाव बनाने के लिए हर एक से निवेदन करूंगा। इस तरह के अत्याचार और गैंगिज्म और माफियाओं का पर्दाफाश करने के लिए उनकी आवाज को उठाना होगा। मैं आपके समर्थन के लिए प्रार्थना करता हूं।'

अपने गुस्से को कम मत होने दें

वहीं बुधवार (24 जून) को किए अपने ट्वीट में शेखर ने लिखा, 'अपने गुस्से कम मत होने दीजिए... आंदोलन को चलने दीजिए... हम दोषियों को नहीं छोड़ेंगे भले ही इसके लिए हमें दुनिया के अंत तक क्यों ना जाना पड़े। #जस्टिस फोर सुशांत फोरम'

बुधवार को ही किए अपने एक अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा, '#जस्टिस फोर सुशांत फोरम पर जबरदस्त प्रतिक्रिया देने के लिए आपका धन्यवाद... मैं इसके तौर तरीकों की रूपरेखा तैयार करने और इसे एक आकार देने की प्रक्रिया में हूं। कृपया उम्मीद ना खोएं और धैर्य रखें... मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि उनके मामले को अंत तक पहुंचाने के लिए हम अपनी ओर से पूरी कोशिश करेंगे।'

सुशांत की मौत का बदला लेंगे

इससे पहले 19 जून को किए अपने ट्वीट में शेखर ने लिखा था, 'एक बिहारी को तो मार दिया पर अभी हम सब जिंदा हैं। ये भूलना मत। बदला तो लिया जाएगा। जो भी इसके गुनहगार हैं, उनको सजा तो मिलेगी। बिहारीज ऑफ द वर्ल्ड यूनाइट।'

कहा था- इंडस्ट्री में कुछ राक्षस भी हैं

16 जून को किए अपने ट्वीट में शेखर ने लिखा था, 'हमारी फिल्म इंडस्ट्री में कुछ ऐसे राक्षस हैं जो बहुत खतरनाक और जहरीले हैं, माफिया हैं और उन्होंने हमेशा सीधे-सादे, कमजोर लोगों को दबाया है, जिन्होंने उनकी बात नहीं मानी... ये दुर्घटना भी कुछ इसी वजह से हुई है।'

इसी दिन किए अपने अन्य ट्वीट में उन्होंने लिखा, 'अभी कई जानें और जाएंगी... अभी और बर्बादी होगी... दिल टूटेंगे, झगड़े फसाद होंगे। दुनिया तबाह होगी... निर्दोष लोग वहशियों का शिकार होंगे। ताकत कमजोरों को, मजलूमों को दबाएंगी, मसलेंगी। हम एक बहुत ही खौफनाक दौर से गुजर रहे हैं।'

बहिष्कार के लिए शुरू हुई थी ऑनलाइन पिटीशन

इससे पहले सुशांत की खुदकुशी को लेकर जयश्री शर्मा श्रीकांत नाम की एक फेसबुक यूजर ने नेपोटिज्म फैलाने वालों के बहिष्कार के लिए ऑनलाइन पिटीशन शुरू कर दी थी। जिस पर 24 घंटे में 16.85 लाख से ज्यादा लोगों ने साइन कर दिए थे। इसे Change.org प्लेटफॉर्म पर शुरू किया गया था।

इसे फेसबुक पर साझा करते हुए जयश्री ने लिखा, "प्लीज साइन और साझा करें। हम फिल्म इंडस्ट्री में बदलाव ला सकते हैं। और बार-बार ऐसा कुछ होने से रोक सकते हैं।" जयश्री ने 10 लाख साइन का लक्ष्य लेकर यह पिटीशन शुरू की थी। हालांकि बाद में इसे फेसबुक से हटा दिया गया।

सुशांत का 12 साल का सफर : 2008 से 2020 तक

  • बिहार से दिल्ली टेक्नोलॉजी यूनिवर्सिटी में इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने आए सुशांत ने शामक डावर की डांस क्लास ज्वॉइन की थी। वहीं से दोस्तों के जरिए एक्टिंग में रुझान बढ़ा और सुशांत उनके साथ बैरी जॉन की ड्रामा क्लास जाने लगे।
  • 2005 में उन्हें फिल्म फेयर अवॉर्ड के लिए शामक डावर के डांस ट्रूप में शामिल होने का मौका मिला। कुछ दिनों बाद सुशांत ने इंजीनियरिंग छोड़ एक्टिंग को ही करियर बनाने का फैसला किया। वो मुंबई आ गए और नादिरा बब्बर के थियेटर ग्रुप ‘एकजुट’ में शामिल हो गए।
  • ‘एकजुट’ के ही प्ले में काम करते हुए उन्हें 2008 में बालाजी टेलिफिल्म्स की कास्टिंग टीम ने टीवी सीरियल ‘किस देश में है मेरा दिल’ में काम करने का ऑफर दिया। 2009 में ‘पवित्र रिश्ता’ मिला और इसी के साथ वह मशहूर हो गए। सुशांत ने ‘जरा नचके दिखा’ और ‘झलक दिखला जा’ रियेलिटी शो में भी हिस्सा लिया।
  • 2012 में सुशांत अभिषेक कपूर की फिल्म ‘काय पो छे’ के ऑडिशन में सिलेक्ट हो गए और यहीं से बड़े पर्दे पर उनका करियर शुरू हुआ। राजकुमार राव और अमित साध के साथ सुशांत की जोड़ी खूब पसंद की गई।
  • इसके बाद वे 2013 में यशराज बैनर की फिल्म ‘शुद्ध देसी रोमांस’ में लीड एक्टर थे। इसके तुरंत बाद 2014 में उन्होंने आमिर के साथ राजकुमार हिरानी की फिल्म ‘पीके’ में बड़ा रोल किया।
  • 2015 में दिबाकर बैनर्जी की ‘डिटेक्टिव‘ब्योमकेश बख्शी’ में काम किया। 2016 में एमएस धोनी की बायोपिक ‘द अनटोल्ड स्टोरी’ में वे धोनी के रोल में थे।
  • 2017 में ‘राब्ता’ के बाद 2018 में ‘केदारनाथ’ में सारा अली खान के साथ नजर आए।
  • 2019 में इरफान और भूमी पेडणेकर के साथ ‘सोनचिरैया’ में काम किया। 2017 में पहली बार धोनी की बायोपिक के लिए फिल्मफेयर में नॉमिनेट हुए। इसके बाद 2019 में आई ‘छिछोरे’ सुशांत सिंह राजपूत के करियर की सबसे अच्छी और आखिरी फिल्म रही।


Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
शेखर सुमन ने सुशांत की मौत मामले में सीबीआई जांच कराने की मांग को लेकर #जस्टिस फोर सुशांत फोरम बनाया। उन्होंने कहा कि वे सुशांत की मौत का सच पता लगाकर ही रहेंगे।


from bhaskar

Comments

Popular posts from this blog

Halloween Kills Teaser and new release date

An Awesome List of the Most Iconic Television Melodramas of All-Time

The Old Guard Review: Missed The Boat On Being a Unique Action Film